Thursday, 9 June 2016

chunotiya aur laxya hi takat hai ? चुनौतियाँ और लक्ष्य ही ताकत है ?

चुनौतियाँ और लक्ष्य ही ताकत –

how concentration is help’full for Goal Achievement
मनुष्य को अपने जीवन में चुनौतियों और लक्ष्यों को ही अपनी ताकत बनाना चाहिए अर्थार्थ यदि कोई लक्ष्य पूर्ण करना हो तो उसमें अपनी पूरी ताकत इस्तेमाल करें और उस लक्ष्य को प्राप्त करके ही रहे यह विचारधारा आपको बहुत आगे ले जाती है|
तो दोस्तों चुनौतियों का सामना करना चाहिए और लक्ष्य को प्राप्त करना चाहिए इसके लिए मैं आपको कुछ बातें बताता हूं जैसे-
Challenges और goal आलसी और निकम्में दिमाग में भी वह गुण और शक्तियां पैदा कर देते है, जिनके बारे में कभी किसी ने सोचा भी नहीं हो । बहुत से लोग अपने आपको तब तक पहचान ही नहीं पाते, जब तक उनका अपना सब कुछ खत्म नहीं हो जाता। problems ने उन्हें इसीलिए nude किया हैं की वे खुद को पहचान सकें।
obstacles और problems ऐसी छैनी और हथौडे हैं, जो शक्तिशाली life को beauty देते है |
success के लिए जरुरी हैं कि व्यक्ति अपने दिमाग की पूरी strength को उसी गुण पर concenstrate कर दें। जिसके पास केवल एक ही गुण हैं- यदि वह अपनी सारी strength को उसी गुण पर concentrate कर दें, तो उस person से ज्यादा success हो सकता हैं, जिसके पास दस गुण तो हैं,
लेकिन concentration नहीं है। एक goal  वाले person का joke बनाना एक fashion सा बन गया है, जबकि वह सारे लोग एक goal वाले ही थे, जिन्होंने दुनिया की रंगत बदल डाली। आज के expertise वाले Age में वह person अपनी छाप छोड ही नहीं सकता, जिसके thoughts एक न हो, जिसका एक supreme goal न हो-जिसकी
ambition न हो।
हमें अपने goal पर स्थिर रहना चाहिए, हमें इसमे बार-बार कोई change’s नहीं करना चाहिए क्यूंकि यह success के लिए बहुत danger है । मान लीजिए, एक नवयुवक ने five-six years तक मेवे का Business किया हैं, इतने time के बाद वह महसूस करता हैं कि उसके लिए perfume का business ज्यादा suitable है और वह मेवे के business को छोडकर perfume के business में लग जाता हैं।
यानी वह अपने five – six years के experience को waste कर देता है। इस तरह वह अपना business change कर अपनी life का बडा हिस्सा यूँ ही गँवा देता है। वह बहुत से business के बारे में थोडी-थोडी जानकारी तो इकठ्ठी कर लेता है, लेकिन Accomplished की तरह, किसी एक में भी नहीं हो पाता।
तो दोस्तों यह पोस्ट आपको कैसी लगी अच्छी लगी हो तो आप whatsapp twitter facebook etc पर जरूर शेयर करें और हमें फॉलो करें |
धन्यवाद दोस्तों |

No comments:

कितना_जरुरी_है_लक्ष्य_बनाना

   कितना_जरुरी_है_लक्ष्य_बनाना  एक बार एक आदमी सड़क पर सुबह सुबह दौड़ (Jogging) लगा रहा था, अचानक एक चौराहे पर जाकर वो रुक गया उस चौराहे पे चा...