Tuesday, 26 May 2020

Meditation क्यों करना चाहिए ?

Meditation क्यों करना चाहिए ❓

एक रोचक जानकारी!

Meditation में क्या ताकत है? साधना का क्या महत्व है....?

जब100 लोग एक साथ साधना करते है तो उत्पन्न लहरें
5 कि.मी.तक फैलती है और नकारात्मकता नष्ट कर सकारात्मकता का निर्माण करती है।
आईस्टांईन नें वैज्ञानिक दृष्टिकोण से कहा था के
एक अणु के विधटन से लगत के अणु का विधटन होता
है,इसीको हम अणु विस्फोट कहते है। 

यही सुत्र हमारे ऋषि, मुनियों ने हमें हजारो साल पहले दिया था।

आज पृथ्वी पर केवल4% लोंग ही ध्यान करते है।
 लेकिन बचे 96% लोंगो को इसका पॉजिटिव इफेक्ट
होता है। अगर हम भी लगातार 90 दिनो तक ध्यान करे तो इसका सकारात्मक प्रभाव हमारे और हमारे परिवार पर दिखाई देगा।

अगर पृथ्वी पर 10% लोंग ध्यान करनें लगे तो पृथ्वी पर विद्यमान लगभग सभी समस्याओं को नष्ट करने की ताकत ध्यान में है। उदारहण के लिए हम बात करे तो भारत के योगी
ने सन् 1993 में वैज्ञानिकों के समक्ष यह सिद्ध
किया था।।हुआ यू कि उन्होने वॉशिंगटन डि सी में 4000 अध्यापको को बुलाकर एक साथ ध्यान(मेडिटेशन)करने को कहा और चमत्कारीक परिणाम यह था कि शहर का क्राईम रिपोर्ट 50% तक कम हुवा पाया
गया। वैज्ञानिकों को कारण समझ नहीं आया और उन्होनें इसे *महर्षि इफेक्ट* यह नाम दिया।

भाईयों बहनों देखा क्या ताकत है ध्यान मे।
हम हमारे भौतिक और आध्यात्मिक यश को कम से
कम श्रम करके अधिक से अधिक साध सकते है।
जरुरत है ध्यान से स्वत: को खोजनें की और मेडिटेशन को एक आदत बनाने की।

मैडिटेशन के लाभ

::शारीरिक लाभ:

1. यह ऑक्सीजन की खपत को कम करती है।
2. यह श्वसन दर को कम करती है।
3. यह रक्तसंचार को बढ़ाती एवं हृदय गति को कम करती है। 
4. व्यायाम सहिष्णुता में वृद्धि लाती है। 
5. यह शारिरिक आराम में सहायक है।
6. यह उच्च रक्त चाप को काबू करने में सहायक है। 
7. यह रक्त लैक्टेट के स्तर को कम करके घबराहट वाले दौरे को कम करता है।
8. मांसपेशियों के खिंचाव को कम करती है।
9. यह एलर्जी, गठिया आदि जैसी संगीन बीमारियों के इलाज में मदद करता है।
10. यह प्रागार्तव के लक्षणों को काबू करने में सहायक है।
11. यह चिकित्सा में मदद करता है।
12. यह प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाती है।
13. यह विषाणु और भावनात्मक संकट की गतिविधि को कम करती है।
14. यह ऊर्जा और सामर्थ्य को बढ़ाती है।
15. वज़न नियंत्रित करने में भी सहायक है। 
16.यह मुक्त कण, ऊतक क्षति को कम करने में मदद करती है।
17. यह त्वचा प्रतिरोध को बढ़ाती है।
18. यह रक्तवसा के स्टार को कम कर, हृदय रोग के खतरे को कम करती है।
19. इससे फेफड़ों में वायु के बेहतर प्रवाह के कारण सांस लेने में आसानी होती है।
20. उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा करती है। 
21. DHEAS (Dehydroepiandr
osterone) के स्टार को बढ़ाती है।
22. बहुकालीन बीमारियों की रोकथाम, कम या नियंत्रण करती है।
23. यह जल्दी और ज़्यादा पसीना आने की समस्या को कम करने में मदद करती है। 
24. यह सिरदर्द की परेशानी के इलाज में सहायक है।
25. मस्तिष्क क्रियाकलाप के अनुशासन की अधिकता को बढ़ाती है।
26. चिकित्सक देखभाल की ज़रूरत को कम करती है।
27. ऊर्जा कम व्यर्थ होती है।
28. खेल और इससे संबंधित गतिविधियों के लिए इच्छा बढ़ती है।
29. दमा की बीमारी में सार्थक राहत मिलती है।
30. एथलेटिक गतिविधियों में बेहतर प्रदर्शन में सहायक होती है।
31. आपके वजन को सामान्यीकृत करती है।
32. अंतःस्त्रावी प्रणाली में समरसता लाती है।
33. आपके तंत्रिका तंत्र को आराम देती है।
34. यह मस्तिष्क विद्युत गतिविधि में स्थायी लाभकारी परिवर्तन पैदा करने में मदद करती है।
35. बांझपन के इलाज में मदद करती है (the stresses of infertility can interfere with the release of hormones that regulate ovulation).

::मनोवैज्ञानिक लाभ:

36. आत्मविश्वास बढ़ाती है।
37. सेरोटोनिन स्टार को बअड़ाती है,मूड और व्यवहार को प्रभावित कर शुद्ध करती है।
38. घबराहट और भय से मुक्त करई है।
39. अपने विचारों को नियंत्रण करने में सहायता करती है। 
40. एकाग्रता प्रबल करने में मदद करती है।
41. स्वयं में रचनात्मक विचारों को बढ़ाती है।
42. यह मस्तिष्क की तरंगों को बड़ा एकजुट करता है।
43. सीखने की क्षमता और स्मृति को बेहतर करती है।
44. जीवन शक्ति और कायाकल्प की भावनाओं को विकसित करती है।
45. भावनात्मक स्थिरता के विकास में भी सहायक है।
46. रिश्तों को बेहतर करने में सहायक है।
47. मस्तिष्क और समझ जागरूक एवं ताज़ा रहती है।
48. बुरी आदतों को खत्म करने में मदद करती है।
49. अंतः प्रज्ञा को विकसित करती है।
50. सृजनात्मकता को बढ़ाती है।
51. व्यक्तिगत और पेशेवर रिश्तों को सुधारने में सहायक है।
52. Able to see the larger picture in a given situation
53. छोटे या अनावश्यक मुद्दों को अनदेखा करने में मदद करती है।
54. कठिन परिस्थितियों का सामना करने को क्षमता प्रदान करती है। 
55. चरित्र में पवित्रता लाती है।
56. इच्छा शक्ति बढ़ती है।
57. *Greater communication between the two brain hemispheres*
58. किसी तनावपूर्ण घटना पर अधिक तेज़ी, और अधिक प्रभावी ढंग से जवाब देने में सहायता प्रदान करती है।
59. एक की अवधारणात्मक क्षमता और प्रदर्शन बढ़ाती है।
60. बुद्धिमता विकास दर बढ़ती है।
61. कार्यशीलता में विकास और संतुष्टि आती है।
62. प्रियजनों के साथ अंतरंग संपर्क की क्षमता में वृद्धि आती है।
63. संभावित मानसिक बीमारी से निजात मिलता है।
64. बेहतर मिलनसार व्यवहार बनता है।
65. आक्रमकता शांत होती है।
66. धूम्रपान, शराब के नशे से मुक्त होने में सहायता देती है। 
67. ड्रग्स, गोलियां और फार्मास्यूटिकल्स पर निर्भरता कम कर देती है।
68. नींद के अभाव से उबरने के लिए नींद कम कर फ्रेश रखता है।
69. नींद की बीमारी के इलाज में सहायक है। 
70. ज़िम्मेदारी की भावना उत्पन होती है।
71. *Reduces road rage*
72. बेचैनी भरी सोच को कम करती है।
73. चिंता की प्रवर्ति को कम करती है।
74. सुनने के कौशल और सहानुभूति को बढ़ाती है।
75. सही निर्णय लेने में मदद करती है। 
76. सहनशीलता बढ़ती है।
77. यह समझदार और रचनात्मक तरीके से कार्य करने के लिए संयम देता है
78. एक स्थिर, अधिक संतुलित व्यक्तित्व बढ़ाता है।
79. भावनात्मक परिपक्वता को विकसित करता है।

::आध्यात्मिक लाभ: 

80. चीजों के प्रति एक विशेष दृष्टिकोण रखने में सहायता प्रदान करती है।
81 खुशी और मन की शांति बढ़ाती है।
82. अपने जीवन के लक्ष्य का पता चलता है। 
83. आत्म-वास्तविकता में वृद्धि होती है।
84. करुणा और बुद्धिमत्ता में बढ़ोतरी होती है।
85. अपने और दूसरों के बारे में गहरी समझ आती है।
87. तन, मन, और बुद्धि में संतुलन पैदा करती है। 
88. आध्यात्मिक विश्राम का स्तर गहरा करती है।
89. स्वयं को बेहतर तरीके से अपनाने में सहायक है।
90. माफ करना सीखने में मदद करती है।
91. ज़िंदगी के प्रति नज़रिया सकारात्मक रखने में मदद मिलती है। 
92. भगवान के साथ एक गहरा संबंध पैदा करने में सहायक है।
93. आपके जीवन में समक्रमिकता बढ़ जाती है।
94. आंतरिक निर्देशन को बढ़ाती है।
95. आज में जीने में सहायता करती है।
96. स्वयं और दूसरों के प्रति गहरे और पवित्र प्रेम की क्षमता पैदा करती है।
97. अहंभाव से परे शक्ति और चेतना की खोज पूरी होती है।
98. ज्ञान के आश्वासन की आंतरिक भावना का अनुभव करें।
99. एकता का भाव अनुभव होता है।
100. प्रबोधन की तरफ ले जाती है।

No comments:

कितना_जरुरी_है_लक्ष्य_बनाना

   कितना_जरुरी_है_लक्ष्य_बनाना  एक बार एक आदमी सड़क पर सुबह सुबह दौड़ (Jogging) लगा रहा था, अचानक एक चौराहे पर जाकर वो रुक गया उस चौराहे पे चा...